BAMV301

संगीत विज्ञान
Programme: 
Bachelor of Arts BA12
Year / Semester: 
1st Year

क्र0 सं0

कोर्स का नाम

1

संगीत विज्ञान

प्रथम खण्ड

भारतीय संगीत का इतिहास, श्रुति एवं स्वर का विस्तारपूर्वक वर्णन व सांगीतिक शब्दों की व्याख्या

इकाई 1 - भारतीय संगीत का इतिहास - मध्यकाल के उपरान्त से आधुनिक काल तक।

इकाई 2 - भारतीय संगीत में थाट पद्धति।

इकाई 3 - श्रुति एवं स्वर की व्याख्या प्राचीन, मध्यकालीन व वर्तमान विद्वानों के अनुसार : दक्षिण भारतीय संगीत का संक्षिप्‍त परिचय ।

इकाई 4 - मार्ग संगीत, देशी संगीत, नायक, गायक, वाग्गेयकार, पंडित, कलावन्त, गीत, गन्धर्व, गान, अविरभाव, तिरोभाव, काकु व तान।

 

द्वितीय खण्ड

राग विस्तार, जीवन परिचय एवं निबन्ध लेखन

इकाई 1 - पाठ्यक्रम के रागों का परिचय, स्वर विस्तार एवं स्वर समूह के माध्यम से राग पहचानना।

इकाई 2 - संगीतज्ञों ( अब्दुल करीम खॉ, अमीर खॉ, डी0 वी0 पलुस्कर, अल्लादिया खॉं, विनायक राव पटवर्धन, कृष्णराव शंकर पंडित व नारायण राव व्यास ) का जीवन परिचय।

इकाई 3 - संगीत सम्बन्धी विषयों पर निबन्ध।

तृतीय खण्ड

स्वरलिपि व ताललिपि में लिखना

इकाई 1 - पाठ्यक्रम के रागों मे ख्याल ( विलम्बित व मध्यलय, तानों सहित ) बन्दिशों को लिपिबद्ध करना।

इकाई 2 - पाठ्यक्रम के रागों मे ध्रुपद व धमार (दुगुन व चौगुन) लयकारी सहित लिपिबद्ध करना।

इकाई 3 - पाठ्यक्रम की तालों का परिचय एवं उनको लयकारी (दुगुन, तिगुन व चौगुन ) सहित लिपिबद्ध करना।

राग - मियां मल्हार, मालकौंस, मुल्तानी, तोडी, दरबारी, बसन्त, परज व शंकरा

ताल - आडाचारताल, दीपचंदी, झूमरा, सूलताल व तीवरा