EEC19

Indian Financial System
Year / Semester: 
3rd Year
Objective: 

स्नातक उपाधि कार्यक्रम में चयनित विषयों में अर्जित दक्षता द्वारा ज्ञान और कर्म-कौशल का विस्तार, बेहतर ज्ञान और कर्म कौशल के आधार पर वांछनीय सामाजिक उपयोगिता का सूत्रपात, भावी विशेषज्ञ के अध्ययन की भूमिका का निर्धारण कराना तथा बेहतर व्यावसायिक एवं रोजगार परक स्थितियों का उन्नयन।

Credits: 
6

खण्ड 1- वित्त व्यवस्था का प्रारम्भिक परिचय

इकाई 1 बचत एवं निवेश प्रकिया: वित्तीय व्यवस्था की भूमिका

इकाई 2 निधियों का प्रवाह

इकाई 3 ब्याज दरों के निर्धारक

इकाई 4 बजट नीति एवं भारतीय वित्त व्यवस्था

खण्ड 2- बैंकिंग व्यवस्था तथा मुद्रा बाजार

इकाई 5 भारत में वाणिज्यिक बैंक

इकाई 6 बैंक एवं गैर-बैंकिंग वित्तीय कम्पनीयों की नियामक रूपरेखा

इकाई 7 भारत में मुद्रा बाजार

खण्ड 3- भारत में पूजी बाजार

इकाई 8 पूजी बाजार(1): नए निर्गम का बाजार

इकाई 9 पूजी बाजार(2): आनुषंगिक बाजार

इकाई 10 पूजी बाजारों का नियामक ढॉंचा

खण्ड 4- भारत में वित्तीय विनियोग संस्थान

इकाई 11 अखिल भारतीय वित्तीय संस्थान

इकाई 12 भारत में निवेशकर्ता संस्थान

इकाई 13 साख मान निर्धारक संगठन

इकाई 14 भारतीय तथा विश्व वित्त व्यवस्था

Suggested Readings: 
  1. Shaw,Edward S.(1973).Financial Deepening inEconomic Development, Oxford University Press, New Youk.
  2. Goldsmith, R.W.(1983):The Financial Development of india, Oxford University Press, Delhi.
  3. Bhole L.M(1988): Impact of Monetary Policy,Himalaya Publication,Mumbai.
  4. Reserve Bank of Indian Bulletin: (Various Issues) Report on Currency and Finance (Annual), Annual Report.