CCRP01

पंचायती राज एक परिचय
Year / Semester: 
Six Months Course
Objective: 

भारत में संघात्मक शासन की स्थापना की गयी है। जिसमें केन्द्र और राज्य में शक्तियों का विभाजन किया गया है । इसी के साथ तृणमूल स्तर पर लोकतन्त्र को पहुॅंचाने के लिए त्रिस्तरीय पंचायतीराज व्यवस्था की स्थापना की गयी है । इस प्रमाणपत्र पाठ्यक्रम में इसका विस्तृत और व्यवस्थित अध्ययन करने प्रयास है । इसका अध्ययन करके एन.जी.ओ. ,राज्य सरकार और केन्द्र सरकार के विभिन्न संस्थाओं में रोजगार के अवसर प्राप्त किये जा सकते हैं ।

Credits: 
6

इकाई 1 विकास की अवधारणा और उसके बदलते आयाम

इकाई 2 प्राचीन काल में पंच-प्रणाली एवं पंचायतों का स्वरूप

इकाई 3 भारत में पंचायती राज की स्थिति व सुदृढ़िकरण के प्रयास

इकाई 4 विकेन्दीकरण- अवधारणा, आवश्यकता एवं महत्व

इकाई 5 स्थानीय स्वशासन की अवधारणा और पंचायतें

इकाई 6 तिहतरवॉ संविधान संशोधन अधिनियम

इकाई 7 ग्राम-सभा

इकाई 8 उन्नतिपुर, एक आदर्श ग्राम सभा (कहानी)

इकाई 9 ग्राम पंचायत- गठन, चुनाव प्रणाली, अधिकार, एवं शक्तियाँ

इकाई 10 क्षेत्र पंचायत- स्वरूप, चुनाव प्रणाली, अधिकार एवं शक्तियाँ

इकाई 11 जिला पंचायत- स्वरूप, चुनाव प्रणाली, अधिकार एवं शक्तियाँ

इकाई 12 पंचायतों की समितियां एवं अनका महत्व

इकाई 13 चौहतरवाँ संविधान संशोधन अधिनियम नगर - निकायों के संदर्भ में

इकाई 14 नगर-निकायों से संबधित विषय और शक्तियाँ एवं कार्य

इकाई 15 शहरी विकास योजनाएं

Suggested Readings: 
  1. मीनाक्षी पवार - पंचायतीराज एवं ग्रामीण विकास
  2. हिमालयन एक्शन रिसर्च सेंटर - पंचायत संदर्भ सामग्री
  3. ब्रज किशोर शर्मा - भारतीय संविधान