MAEC106

Public Economic
Programme: 
M.A. Economics MAEC12
Year / Semester: 
2nd Year

खण्ड 1- परिचय
इकाई 1- अर्थव्यवस्था में राज्य की आर्थिक क्रियाओं का विश्लेषण
इकाई 2- लोक वित्त की प्रकृति और क्षेत्र
इकाई 3- लोक वित्त की अवधारणाएं और बाजार असफलता
इकाई 4- निजी वस्तु, लोक वस्तु और मेरिट वस्तु एवं सिद्धान्त

खण्ड 2- लोक व्यय
इकाई 5-लोक व्यय उद्देश्य, आवंटन वितरण और स्थिरीकरण
इकाई 6-लोक व्यय के नियम वैगनर एवं वाइजमैन-पीकाँक
इकाई 7-लोक व्यय का प्रभाव उत्पादन, वृद्धि, वितरण और स्थिरीकरण
इकाई 8-कार्यात्मक वित्त  

खण्ड 3- लोक राजस्व एवं बजटिंग
इकाई 9- करारोपण के सिद्धान्त एवं वर्गीकरण
इकाई 10- करारोपण का प्रभाव, उत्पादन, वृद्धि, वितरण और संसाधनां के आवंटन पर
इकाई 11- करापात एवं कर विवर्तन
इकाई 12- परम्परागत, निष्पादन और शून्य आधार बजटिंग

खण्ड 4- लोक उद्यम
इकाई 13- लोक उद्यमों के प्रकार,महत्व एवं उपयोगिता
इकाई 14- लोक उद्यमों की कीमत नीति प्रबन्धित कीमते एवं आधिक्य सृजन
इकाई 15- लोक उद्यमों का कल्याणकारी प्रभाव एवं चुनौतियाँ

खण्ड 5- लोक ऋण
इकाई 16- लोक ऋण का अर्थशास्त्र एवं प्रकार
इकाई 17- लोक ऋण के प्रभाव एवं भार
इकाई 18- लोक ऋण भुगतान की विधियाँ एवं प्रबन्धन

खण्ड 6- संघीय वित्त
इकाई 19- संघीय वित्त के सिद्धान्त और समस्याऐं
इकाई 20- संघीय वित्त का विभाजन एवं कार्यकरण
इकाई 21- वित्त आयोग संरचना  एवं कार्यकरण
इकाई 22- 13वें वित्त आयोग की प्रमुख सिफारिशें

खण्ड 7- भारतीय कर प्रणाली
इकाई 23- भारत में कर आधार( प्रत्यक्ष एवं अप्रत्यक्ष कर एवं गैर -कर आय)
इकाई 24- राज्य और स्थानीय निकाय की आय के स्रोत
इकाई 25- संघीय बजट का विश्लेषण एवं सुधार
इकाई 26- घाटे की वित्त व्यवस्था एवं घाटे का मौद्रीकरण और राजकोषीय क्षेत्र सुधार

Suggested Readings: 

1. Houghton, E. W. (Ed.) (1988), Public Finance, Penguin, Baltimore.
2. Jha, R. (1998), Modern Public Economics, Routledge, London.
3. Mithani, D. M. (1998), Modern Public Finance, Himalaya Publishing House. Mumbai.
4. Musgrave, R. A. and P. B. Musgrave (1976), Public Finance in Theory and Practice McGraw Hill, Kogakusha, Tokyo.