MY103

हठयोग के सिद्धान्त
Programme: 
M.A. Yoga MAY13
Year / Semester: 
1st Year

ब्लॉक-प्रथम    हठयोग का स्वरूप                                      
इकाई-1        हठयोग का अर्थ] परिभाषाएं] उद्देश्‍य एवं महत्व
इकाई-2        हठयोग का उद्भव एवं विकास क्रम
इकाई-3        हठाभ्यास हेतु उचित स्थान] ऋतु काल एवं आहार-विहार

ब्लॉक-द्वितीय  हठयोग प्रदीपिका-आसन] प्राणायाम एवं षट्कर्म
इकाई-4        विविध आसनों की विधि] लाभ एवं सावधानियाँ
इकाई-5        नाड़ीशोधन] सूर्यभेदन तथा उज्जायी प्राणायाम की विधि लाभ एवं सावधानियाँ
इकाई-6        सीत्कारी] शीतली] भस्त्रिका] भ्रामरी] मूर्च्छा एवं प्लावनी प्राणायाम की विधि] लाभ एवं सावधानियाँ
इकाई-7        धौति] वस्ति] नौलि की विधि] लाभ एवं सावधानियाँ
इकाई-8        नेति] त्राटक एवं कपालभाति की विधि लाभ एवं सावधानियाँ

ब्लॉक-तृतीय    हठयोग प्रदीपिका-मुद्रा एवं नादानुसंधान
इकाई-9        बन्ध एवं मुद्रा का अर्थ] परिभाषा] उद्देश्‍य एवं महत्व
इकाई-10       निम्नलिखित बन्धों की विधि] लाभ एवं सावधानियाँ –
मूल बन्ध] जालन्धर बंध] उडिडयान बंध] महाबंध
इकाई-11       निम्नलिखित मुद्राओं की विधि] लाभ एवं सावधानियाँ -
महामुद्रा] महावेध] खेचरी] विपरीतकरणी] वज्रोली] शक्तिचालिनी
इकाई-12       नाद की अवधारणा] नाद का स्वरूप एवं अवस्थायें
इकाई-13       कुण्डलिनी का स्वरूप तथा कुण्डलिनी जागरण के उपाय

ब्लॉक-चतुर्थ    घेरण्ड संहिता-षट्कर्म
इकाई-14       घेरण्ड संहिता में वर्णित धौति की विधि] लाभ एवं सावधानियाँ
इकाई-15       घेरण्ड संहिता में वर्णित वस्ति] नेति] नौलि की विधि] लाभ एवं सावधानियाँ
इकाई-16       घेरण्ड संहिता में वर्णित त्राटक एवं कपालभाति की विधि] लाभ एवं सावधानियाँ

ब्लॉक-पंचम    घेरण्ड संहिता-आसन एवं प्राणायाम
इकाई-17       घेरण्ड संहिता में वर्णित 1-16 आसनों की विधि] लाभ एवं सावधानियाँ
इकाई-18       घेरण्ड संहिता में वर्णित 17-32 आसनों की विधि] लाभ एवं सावधानियाँ
इकाई-19       घेरण्ड संहिता में वर्णित विविध प्राणायामों की विधि] लाभ एवं सावधानियाँ

ब्लॉक-षष्‍ठ     घेरण्ड संहिता-मुद्रा प्रत्याहार] ध्यान एवं समाधि
इकाई-20       घेरण्ड संहिता में वर्णित मुद्राओं की विधि] लाभ एवं सावधानियाँ
इकाई-21       घेरण्ड संहिता में वर्णित प्रत्याहार व ध्यान
इकाई-22       घेरण्‍ड  संहिता में वर्णित समाधि वर्णन