MAMT01

संगीत एवं सौन्दर्यशास्त्र
Code: 
MAMT01
Programme: 
M.A. Music (Tabla )
Year / Semester: 
1st Year
Objective: 

इस कोर्स का उद्देश्य विद्यार्थियों को सौन्दर्यशास्त्र तथा पाश्‍चात्‍य संगीत का ज्ञान देना एवं उनके भारतीय शास्‍त्रीय संगीत के ज्ञान में वृ़fद्ध करना है ।

Credits: 
4

प्रथम खण्ड सौन्दर्यशास्त्र

इकाई 1 - रस सिद्धान्त, लय व छन्द।

इकाई 2 - सौन्दर्य शास्त्र भारतीय एवं पाश्चात्य संगीत के सन्दर्भ।

इकाई 3 - संगीत की व्याख्या भरत के नाट्यशास्त्र के अनुसार।

द्वितीय खण्ड भारतीय संगीत का इतिहास

इकाई 1 - प्राचीन काल।

इकाई 2 - मध्यकाल।

इकाई 3 - आधुनिक काल।

तृतीय खण्ड भारतीय वाद्यों का वर्गीकरण एवं ध्वनि प्रकरण

* इकाई 1 - भारतीय संगीत वाद्यों का वर्गीकरण ( विस्तृत अध्ययन )।

इकाई 2 - ध्वनि का विज्ञान एवं महत्व।

* इकाई 3 - घ्वनि भेद ध्वनि (संगीतोपयोगी), नाद (आहत एवं अनाहत), घ्वनि का उॅचा व नीचापन,काकु}।

चतुर्थ खण्ड पारिभाषिक शब्द एवं पाश्चात्य संगीत

* इकाई 1 - संगीत संबंधी पारिभाषिक शब्दों की विस्तृत व्याख्या ( नाद, स्वर, श्रुति, सप्तक, ताल, लय, लयकारी, ख्याल, ध्रुवपद, धमार, ठुमरी व टप्पा ) ।

इकाई 2 - पाश्चात्य संगीत का परिचय एवं स्टाफ नोटेशन।

इकाई 3 - पाश्चात्य संगीत के पारिभाषिक शब्द।

Suggested Readings: 
  1. वसन्त, संगीत विशारद, संगीत कार्यालय, हाथरस, उ0 प्र0 ।
  2. डॉ0 सुलोचना बृहस्पति , ध्‍वनि और संगीत ।
  3. डॉ0 लालमणि मिश्र, भारतीय संगीत वाद्य,भारतीय ज्ञानपीठ प्रकाशन,दिल्‍ली ।
  4. श्री एस0एस0 परान्‍जपे,भारतीय संगीत का इतिहास।
  5. श्रीमती स्‍वतन्‍त्रा शर्मा, सौन्‍दर्य रस और संगीत ।
  6. श्री भगवतशरण शर्मा, पाश्चात्य संगीत शिक्षा, संगीत कार्यालय, हाथरस ।