चित्त की अवधारणा तथा अभ्यास और वैराग्य