फनी की ग़ज़ल में मौसिक़िअत